HI/670322b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद सैन फ्रांसिस्को में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"अग्नि को एक स्थान पर रखा गया है, परन्तु यह अलग प्रकार से प्रकट हो रही है। यह रोशनी कर रही है, यह एक स्थान से अपनी ऊष्मा वितरित कर रही है। उसी प्रकार, परम पुरुषोत्तम भगवान, वे दूर, बहुत दूर हो सकते हैं। परन्तु वे दूर नहीं भी है, क्योंकि वे अपनी शक्ति से उपस्थित हैं। धूप की भांति। सूर्य हमसे बहुत दूर है, किन्तु वह अपनी रोशनी से हमारे समक्ष उपस्थित है। हम समझ सकते हैं कि सूर्य क्या है। उसी प्रकार, यदि आप परम पुरुषोत्तम भगवान की शक्तियों का अध्ययन करते हैं, तो आप चेतना में हैं, अर्थात कृष्ण भावनामृत में हैं। तो यदि आप स्वयं को कृष्ण की शक्ति में संलग्न करते हैं, तो आप कृष्ण भावनाभावित हो जाते हैं। और जैसे ही आप कृष्ण भावनाभावित हो जाते हैं, आप अलग नहीं रहते। आप कृष्ण से अलग नहीं रहते हैं।"
670322 - प्रवचन श्री. भा. ०७.०७.४६ - सैन फ्रांसिस्को