HI/680504 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद बॉस्टन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
तो मनुष्य जीवन की मूल्यवान संपत्ति, केवल कुत्तों और सूअर के रूप में बर्बाद करने के लिए नहीं है । हमें जिम्मेदारी मिली है । आत्मा एक रूप से दूसरे शरीर में स्थानांतरित हो रही है, और यह मनुष्य शरीर सिर्फ अपने आप को तैयार करने के लिए उपयुक्त है कि आप कैसे राधा-कृष्ण के आनंद के उस दिव्य मंच में प्रवेश कर सकते हैं । आप आनंद की तलाश कर रहे हैं, लेकिन आप उस आनंद को प्राप्त करना नहीं जानते हैं । उस आनंद को प्राप्त करने का सूत्र यहाँ हैं: तपो दिव्यम । 'मेरे प्रिय पुत्रो, आपको तपस्या के कुछ सिद्धांतों से गुज़रना होगा’, दिव्यम, 'निरपेक्ष सत्य के संग से दिव्य सुख प्राप्त करने के लिए ।
680504 - प्रवचन श्री.भा. ५.५.१-३ - बॉस्टन