HI/680508c प्रवचन - श्रील प्रभुपाद बॉस्टन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
यह कृष्ण भावनामृत आंदोलन है। यह आंदोलन नवीन नहीं है। यह आंदोलन कम से कम, पाँच सौ वर्ष पुराना है। भगवान चैतन्य, उन्होंने पंद्रहवीं शताब्दी में इस आंदोलन की शुरुआत की थी। यह आंदोलन भारत में वर्तमान में प्रत्येक स्थान पर है, परंतु आपके देश में, निश्चित रूप से, यह नया है। परंतु हमारा अनुरोध है कि आप कृपया इस आंदोलन को गंभीरता से लें। हम आपसे आपकी तकनीकी प्रगति को रोकने के लिए नहीं कहते हैं। आप इसे जारी रखिए। बंगाल में एक अच्छी कहावत है कि एक महिला घरेलू काम में व्यस्त होने के साथ ही..., स्वयं को अच्छी तरह से सजाती है। यह महिलाओं की प्रकृति है। जब वे बाहर जाती हैं तो वे बहुत अच्छी तरह से श्रृंगार करती हैं। इसी प्रकार, आप हर प्रकार की तकनीक में व्यस्त हो सकते हैं। इसकी मनाही नहीं है। परंतु साथ ही, आप इस तकनीक, आत्मा के विज्ञान को समझने का प्रयास करें।
680508 - एम आई टी के विद्यार्थीओ को प्रवचन - बॉस्टन