HI/680629 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद मॉन्ट्रियल में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
भक्त कर्म के अधीन नहीं हैं । ब्रह्म-संहिता में यह कहा गया है, कर्माणि निर्दहति किन्तु च भक्ति भाजां (ब्र.सं. ५.५४) । प्रह्लाद महाराज पर उनके पिता ने इतने तरीकों से अत्याचार किया था, लेकिन वे प्रभावित नहीं हुए । वे प्रभावित नहीं हुए । बाहरी तौर पर... ईसाई बाइबिल में भी उसी तरह, जैसे कि प्रभु यीशु मसीह पर अत्याचार किया गया था, लेकिन वे प्रभावित नहीं हुए थे । यह साधारण आदमी और भक्तों, या दिव्य लोगों के बीच का अंतर है । बाहरी रूप से यह देखा जाता है कि एक भक्त पर अत्याचार किया जा रहा है, लेकिन उसे यातनाएं नहीं होती है ।
680629 - प्रवचन अंश - मॉन्ट्रियल