HI/680911b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद सैन फ्रांसिस्को में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
आत्मसमर्पण किए बिना, नियंत्रक और नियंत्रित को समझना बहुत कठिन है, वे कैसे सब कुछ नियंत्रित कर रहे हैं। तुभ्यं प्रपन्नाया अशेषतः समग्रेण उपदेक्षयामि। यह स्थिति है। बाद के अध्यायों में आपको पता चलेगा कि कृष्ण कहते हैं, नाहं प्रकाश- सर्वस्व ( भ.गी. 7.25)। जैसे यदि आप किसी भी शिक्षण संस्थान में प्रवेश करते हैं, यदि आप अपने आप को संस्था के नियमों और विनियमन के लिए आत्मसमर्पण नहीं करते हैं, तो आप संस्था द्वारा प्रदान किए गए ज्ञान का लाभ कैसे प्राप्त कर सकते हैं?
680911 - प्रवचन BG 07.02 - सैन फ्रांसिस्को