HI/690101 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
यह संपूर्ण भौतिक वातावरण प्रकृति के तीन गुणों से अतिभरित है । तो व्यक्ति को इन तीनों गुणों के परे जाना चाहिए । जैसे किसी को प्रथम श्रेणी का कैदी बनने की कोशिश नहीं करनी चाहिए । जेल में, यदि कोई तीसरे दर्जे वाला कैदी है और प्रथम श्रेणी का कैदी है, तो तीसरे वर्ग के कैदी को यह उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि 'मुझे इस जेल में रहने दो और मैं प्रथम श्रेणी का कैदी बन जाऊ' । यह ठीक नहीं है । व्यक्ति को जेल की दीवारों को पार करना चाहिए, और इस जेल से बाहर जाना चाहिए । यह उसका लक्ष्य है।
690101 - प्रवचन भ.गी. ३.३१-४३ - लॉस एंजेलेस