HI/690107b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"गोविंद दास ठाकुर, वे अपने मन से अनुरोध कर रहे हैं: 'मेरे प्यारे मन, तुम बस अपने आप को अभय-चरणारविंद के चरण कमलों से जोड़ लो'। यह कृष्ण के चरण कमलों का नाम है। अभय का अर्थ है निर्भय। यदि आप कृष्ण के चरण कमलों की शरण लेते हैं, तो आप तुरंत ही निर्भय हो जाते हैं। इसलिए वे अपने मन को सलाह देते हैं कि 'मेरे प्यारे मन, तुम बस अपने आप को गोविंद के चरण कमलों की सेवा में लगाओ'। भजहु रे मन श्री नंदनंदन। वे 'गोविंद' नहीं कहते हैं, वे कृष्ण को 'नंद महाराज के पुत्र' के रूप में संबोधित करते हैं। क्योंकि कृष्ण के चरण कमल निर्भय है, आपको माया के हमले से कोई भय नहीं होगा।"
690107 - प्रवचन "भजहु रे मन" भजन पर व्याख्या - लॉस एंजेलेस