HI/690215 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी

“पत्रं पुष्पम फलम तोयं यो मे भक्त्या प्रयच्छति तद अहं भक्ति-उपाहटम् अश्नामि प्रयतात्मनः (भ. गी. ९.२६)

'अगर कोई मुझे भक्ति, प्रेम के साथ फूल, फल, सब्जियां, दूध चढ़ाता है, तो मैं स्वीकार करता हूं और खाता हूं।' अब वे कैसे भोजन कर रहे है, आप वर्तमान में नहीं देख सकते - लेकिन वे खा रहे है। हम रोज अनुभव कर रहे हैं। हम अनुष्ठान प्रक्रिया के अनुसार कृष्ण को अर्पित कर रहे हैं, और आप देखते हैं कि भोजन का स्वाद तुरंत बदल जाता है। यह व्यावहारिक है। कृष्ण खाते है, लेकिन क्योंकि वे पूर्ण है, वे हमारी तरह नहीं खाते है। ठीक वैसे ही जैसे मैं तुम्हें खाने की थाली देता हूं, तुम खत्म कर देते हो। लेकिन भगवान भूखा नहीं है, बल्कि वे खाते है। वे खाते है और चीजों को वैसा का वैसा ही रखते है।”

690215 - प्रवचन भ. गी. ०६.०६-१२ - लॉस एंजेलेस