HI/690220 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो कृष्ण चेतना आंदोलन इतना अच्छा है कि जैसे ही आप जुड़ते हैं, आप तुरंत शुद्ध बन जाते हैं। लेकिन फिर से दूषित नहीं होना हैं। इसलिए ये प्रतिबंध है। क्योंकि इन चार प्रकार की बुरी आदतों से हमारा संदूषण शुरू होता है। लेकिन अगर हम प्रतिबन्ध करते हैं, तो वहाँ है संदूषण का कोई सवाल ही नहीं है। जैसे ही मैं कृष्ण चेतना में जाता हूं मैं मुक्त हो जाता हूं। अब अगर मैं इन चार सिद्धांतों को स्वीकार नहीं करने के लिए सतर्क हो जाता हूं, तो मैं स्वतंत्र हूं; मैं निरंतर जारी रख सकता हूं। यह प्रक्रिया है। लेकिन अगर आप ऐसा सोचते हैं। "क्योंकि कृष्ण चेतना मुझे मुक्त बनाती है, इसलिए मुझे इन चारों सिद्धांतों में शामिल होने दें और मैं जप के बाद मुक्त हो जाऊंगा," तो यह धोखा है। इसकी अनुमति नहीं दी जाएगी।"
690220 - प्रवचन भ. गी. ६.३५-४५ - लॉस एंजेलेस