HI/690910 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद हैम्बर्ग में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो नरोत्तम दास ठाकुर की व्याख्या कहती है कि इस युग मे, यद्यपि लोग मद्यप, व्यभिचारी, मांस भक्षी और सब ..... जुआरी, सब तरह के पापी अभिनेता हैं, फिर भी यदि वे इस कृष्ण भावनामृत आंदोलन को ग्रहण करते हैं और हरे कृष्ण जपते हैं, वे मुक्त हो जायेंगे, निश्चय ही। ये भगवान चैतन्य का आशीर्वाद है।"
690910 - हरी हरी बिफले की भजन और व्याख्या - हैम्बर्ग