HI/690916 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"भगवान कृष्ण ने कहा था कि जो व्यक्ति कर्तव्य समझ कर कर्म करता है, फल का भोग लेने के लिए नहीं, जब यह संभव है... अब, यदि तुम पारिवारिक व्यक्ति हो तो तुम्हें अपने परिवार का पालन करने के लिए काम करना होगा; इसलिए तुम्हें अपने कर्मों के फलों को भोगना होगा। तो यह केवल उस व्यक्ति के लिए संभव है जो पूरी तरह से भगवान् की सेवा के लिए समर्पित है। इसलिए ऋषभ देव की सलाह है कि मानव जीवन विशेष रूप से तपस्या, नियामक सिद्धांतों के लिए अभिप्रेत है, न कि मनमाने अनुसार कुछ भी करना। अत्यंत नियमित जीवन, वही मानव जीवन है।"।
690916 - प्रवचन - लंडन