HI/700507 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"कृष्ण, यद्यपि वह वृंदावन में हैं, गोलोका वृंदावन, सहयोगियों के साथ लीलाओं का आनंद ले रहे हैं, वह हर जगह हैं, स्थिति,आकार, रूप, गतिविधियों के अनुसार है। इसलिए यहां कहा जाता है कि सर्वोच्च भगवान चलते हैं और नहीं चलते हैं। वह अपने निवास से नहीं जातें हैं। वह पूरी तरह से आनंद ले रहे हैं। लेकिन एक ही समय में, हर जगह वह हैं।। हर जगह वह चल रहे हैं। जैसे हम भोजन अर्पण करते हैं। इसलिए ऐसा मत सोचो कि कृष्ण स्वीकार नहीं कर रहे हैं। कृष्ण स्वीकार कर रहे हैं, क्योंकि यदि आप भक्ति के साथ किसी चीज़ को अर्पण करते हैं तो वह तुरंत अपना हाथ फैला सकता है। तद अहम् भक्ति उपहृतं अशनामी (भ.गी. ९.२६)। कृष्ण कहते हैं, 'कोई भी मुझे अर्पण करे..., मुझे विश्वास और प्रेम के साथ कुछ अर्पण करे, मैं खाता हूँ'। लोग पूछ सकते हैं,'ओह, कृष्ण दूर, गोलोका वृंदावन में हैं।। वह कैसे खाते हैं।? वह कैसे लेते हैं?' ओह, वह भगवान हैं। हां, वह ले सकते हैं। इसलिए कहा जाता है, "वह चलता है। वह चलता नहीं है। ”
700507 - प्रवचन इशो ०५ - लॉस एंजेलेस