HI/700516 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
विद्याम् अविद्यम् च: , दो पक्ष हैं अंधकार एवं प्रकाश। आपको दो बातें पता होनी चाहिए: माया क्या है अथवा कृष्ण क्या हैं। इसके उपरांत ही आपका ज्ञान परिपूर्ण होता है। निसंदेह, कृष्ण इतने अच्छे हैं कि किसी न किसी प्रकार, यदि आप कृष्ण को समर्पण करते हैं, तो आपका सारा कार्य समाप्त हो जाता है। आपको स्वतः ही पता चल जाएगा कि सत्य क्या है । यदि आप ने कृष्ण को पूर्ण समर्पण कर दिया है, कृष्ण आपको भीतर से बुद्धि प्रदान करेंगे।
700516 - प्रवचन इसो ११ - लॉस एंजेलेस