HI/701216 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद सूरत में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"कृष्ण की पूजा की जा सकती है, कृष्ण को किसी भी क्षमता से प्रेम किया जा सकता है। गोपियों ने कृष्ण को प्रकट रूप से वासना, काम की इच्छाओं, के परे प्रेम किया, और शिशुपाल ने क्रोध में कृष्ण को याद किया। कामात क्रोधाद भयात। और कंस ने हमेशा कृष्ण को भय में आकर याद किया। निश्चित रूप से वे भक्त नहीं थे। भक्तों का अर्थ है कि उन्हें हमेशा कृष्ण के प्रति अनुकूल होना चाहिए, अतार्किक नहीं। लेकिन कृष्ण इतने दयालु हैं, यहां तक कि किसी ने उनके लिए एक अनैतिक रवैये को रखा हो, उन्हें भी मोक्ष प्राप्त होता है।"
701216 - प्रवचन श्री.भा. ०६.०१.२७ -३४ - सूरत