HI/701227 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद सूरत में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"हम उपभोग कर रहे हैं। यह भौतिक गतिविधि क्या है? वे उपभोग कर रहे हैं । यह भौतिक पदार्थ, यह घर, "मेरे पास एक बहुत अच्छा घर है, गगनचुंबी इमारत।" तो मैं उपभोक्ता हूं। लेकिन मैंने यह सब लोहा, लकड़ी, मिट्टी, ईंटें को चुना है, और ये पांच सामग्रियां हैं; मैं मिट्टी को लेता हूं और इसे पानी के साथ मिलाता हूं, मैं इसे आग से सुखाता हूं, तो ईंट बनाई जाती है। इसी तरह, सीमेंट बनाया जाता है। फिर हम इन सबको साथ लाते हैं और एक बहुत अच्छा घर बनाते हैं, और मुझे लगता है, “मैं भोग रहा हूं। मैं भोग रहा हूं" मैं भोग नहीं रहा हूं; मैं अपनी ऊर्जा बेकार कर रहा हूँ, बस। यह सामग्री प्रकृति द्वारा प्रदान की गयी है, प्रकरेतैः क्रियमाणानि। प्रकृति, एक मायने में प्रकृति आपकी सहायता करता है और आप सोच रहे हैं, या मैं सोच रहा हूँ, मैं भोगी हूं"
701227 - प्रवचन - सूरत