HI/710117 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद इलाहाबाद में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष (श्री.भा. ४.८.४१, चै.च. आदि १.९०): ये एक जीव को उच्चतम मंच पर ले जाने के सिद्धांत हैं । लेकिन उन्होंने इसे आम तौर पर ले लिया है,... वे कुछ अधिक धन, अर्थ, पाने के लिए धार्मिक अनुष्ठान करते हैं । बेशक, हमें अपने पालन के लिए कुछ धन की आवश्यकता है; यह ज़रूरी है । लेकिन अगर हम केवल धन प्राप्त करने के लिए धार्मिक अनुष्ठान करते हैं, तो यह गलत है । आम तौर पर लोग ऐसा करते हैं । वे दान देते हैं ताकि उन्हें अधिक धन मिल सके । वे धर्मशाला खोलते हैं ताकि उन्हें अधिक घर मिल सकें । यही उनका उद्देश्य है । या फिर उन्हें स्वर्गीय साम्राज्य की प्राप्ति हो सकती है । क्योंकि वे नहीं जानते कि उनकी वास्तविक हित क्या है । वास्तविक हित है भगवद धाम वापस जाना ।
710117 - प्रवचन श्री.भा. ६.२.१२-१४ - इलाहाबाद