HI/710203 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद गोरखपुर में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"ओथूम्म प्रोतुं पतवद यत्र विश्वम—यह ब्रह्मांडीय प्रकटीकरण सिर्फ इस तरफ और उस तरफ बुना हुआ धागा जैसा है। दोनों तरफ धागे होते हैं, जैसे कपड़े के दो तरफ होते हैं; दोनों तरफ की लंबाई और चौड़ाई, दोनों तरफ धागे होते हैं। इसी तरह, संपूर्ण ब्रह्मांडीय प्रकटीकरण, लंबाई और चौड़ाई, सर्वोच्च गुरु की ऊर्जा काम कर रही है। भगवद गीता में भी यह कहा गया है, सुत्रे मणी गन्ना इवा (भ.गी. ७.७]। जिस तरह से एक धागे में मनका और मोती बुने गए हैं, उसी तरह कृष्ण, या पूर्ण सत्य, धागे की तरह है, और सब कुछ, सभी ग्रह या सभी पृथ्वी, सभी ब्रह्मांड, वे एक धागे में बुने हुए हैं, और वह धागा है कृष्ण। कृष्ण यह भी कहते हैं, एकांशेना स्थितो जगत (भ.गी. १०. ४२): एक-चौथाई ऊर्जा में, पूरी भौतिक रचना स्थापित है।"
710203 - प्रवचन श्री.भा. ०६.०३.१२ - गोरखपुर