HI/710408 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद बॉम्बे में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
“इस युग में, सिर्फ हरे कृष्ण मंत्र, हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण, हरे हरे / हरे राम, हरे राम, राम राम, हरे हरे का जाप करने से व्यक्ति बहुत ही आसानी से आध्यात्मिक जीवन में उन्नति कर सकता है। और आप देख सकते हैं कैसे ये लड़के और लड़कियां, जो पश्चिमी देशों से आ रहे हैं, हालांकि उनके पिछले जीवन में कई गलतफैमियाँ थीं, अब वे शुद्ध हैं। केवल इस हरे कृष्ण मंत्र का जाप करने की वजह से। यह है...। वे अब दैवी संपत को विकसित कर रहे हैं। दैवी संपत का अर्थ उन विशेषताओं से है जिनके द्वारा वे मुक्ति और आध्यात्मिक प्राप्ति के लिए बहुत आसान प्रगति कर सकते हैं। इसे दैवी संपत कहा जाता है।"
710408 - प्रवचन भ.गी. १६.२-७ - बॉम्बे