HI/710806b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो आत्मा इस द्रव्य से आच्छादित है। पहली परत को सूक्ष्म कहा जाता है, सूक्ष्म-मन, बुद्धि, अहंकार: मन, बुद्धि और अहंकार। अब हम झूठे अहंकार के अधीन हैं। ठीक उसी तरह यदि आपके पास एक अच्छी पोशाक है तो आप बहुत गर्वित हो जाते हैं, कि " मेरे पास यह बहुत अच्छी, महंगी पोशाक है।" लेकिन आप वास्तव में पोशाक नहीं हैं। यह उनकी गलतफहमी है। अगर आपके पास एक अच्छी कार है, रोल्स-रॉयस कार, अगर आप उसमे बैठते हैं, तो आपको बहुत गर्व महसूस होता है। तो इस गलत पहचान को माया कहते है। भागवत का कहना है कि हर कोई चेतना की विभिन्न परतों के अनुसार खुश रहने की कोशिश कर रहा है।"
710806 - प्रवचन श्री. भा. ०१.०२.०६ - लंडन