HI/710822 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"जैसे आप ने कोई अपराध किया है, और आपको न्यायालय में पेश किया जाता है, और आप कहते हैं, "माननीय महोदय, मैं इस अपराध से वाकिफ नहीं था; यह मैंने किया है। मुझे माफ किया जा सकता है। मैं यह नहीं करूँगा।" फिर आपको क्षमा किया जाता है, एक है . . . "यह ठीक है।" लेकिन अगर आप माफ़ कर दिए जाते हैं और फिर से वापस आकर और फिर से वही कुकर्म, अपराध करते हैं, और यदि आप फिर से गिरफ्तार होते हैं, तो आपको कठोर से कठोर सजा दी जाएगी। यह एक सामान्य ज्ञान है। लोग कैसे सोचते हैं कि "क्योंकि मैं हरे कृष्ण का जप करता हूं या मैं भगवान का पवित्र नाम लेता हूं या मैं गिरजाघर जाता हूं, इसलिए मैं अनगिणत पाप कर सकता हूं, कोई बात नहीं। इसका प्रतिकार अगले सप्ताह या अगले क्षण होगा जब मैं जप करूँगा"? यह हरे कृष्ण मंत्र का जाप करने में सबसे गंभीर अपराध है। आपको हमेशा याद रखना चाहिए।"
710822 - प्रवचन दीक्षा - लंडन