HI/710824 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"मैंने एक अंधेरा कुआं देखा है। आपके देश में, जब मैं १९६९ में जॉन लेनन के घर में मेहमान था, तो हमने बगीचा में देखा कि वहाँ एक अंधेरा कुआँ था। अंधेरे कुएँ का मतलब बहुत गहरी खाई, कुआँ, लेकिन यह घास से ढका हुआ है। आप यह नहीं जान सकते हैं कि एक गहरा कुआं है, लेकिन चलते समय, आप इसके भीतर गिर सकते हैं। और यह पहले से ही घास से ढका हुआ है, और यह बहुत गहरा है। यदि आप इसमें गिरते हैं और आप इससे बाहर निकलने की कोशिश करते हैं, क्योंकि यह एकान्त स्थल है, कोई भी नहीं है, कोई भी आपको सुन नहीं सकता है, और आप बस बिना किसी की मदद के मर सकते हैं। इसलिए यह भौतिकवादी संबंधी जीवन, बाहरी दुनिया के किसी भी ज्ञान के बिना या किसी भी ज्ञान के बिना... बाहरी दुनिया का अर्थ है, जैसे हम इस ब्रह्माण्ड के भीतर हैं। यह ढका हुआ है। जिस गोल चीज को हम आकाश में देखते हैं, वह आवरण है। नारियल के खोल की तरह: एक नारियल का खोल, भीतर और बाहर। नारियल के खोल के भीतर अंधेरा है, बाहर प्रकाश है। इसी तरह, यह ब्रह्मांड नारियल की तरह है। हम भीतर हैं।"
710824 - प्रवचन श्री.भा. ०१.०२.०३ - लंडन