HI/711110 बातचीत - श्रील प्रभुपाद दिल्ली में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"अन्य देशों को भारत के प्रति, जो पुण्य भूमि है, उच्च सम्मान है। लेकिन हम इसकी हत्या कर रहे हैं, हमारे वर्तमान सरकार और तथाकथित नेता, इस राज्य की हत्या कर रहे हैं। यह खेदजनक है। पुरे भारत में वे इस भारत-वर्ष को सर्वोच्च शिखर तक ले जा सकते थे अगर आजादी के बाद वे संगठित रूप से भगवद गीता और वैदिक संस्कृति का प्रचार करते। यही मेरा मिशन है।"
711110 - बातचीत - दिल्ली