HI/711110d प्रवचन - श्रील प्रभुपाद दिल्ली में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो अगर हम समझना चाहते हैं, अगर हम भगवान को जानना चाहते हैं, तो हमें उनका भक्त बनना होगा। भक्त का मतलब है दास-शुल्क दास नहीं, बल्कि स्नेह से दास। जैसे ये लड़के, यूरोपीय लड़के, अमेरिकी लड़के और कुछ फिलीपींस के लड़के, वे मेरी सेवा करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन वे शुल्क दास नहीं हैं; वे स्नेह से दास हैं। जैसे पिता और माता पुत्रों के दास बन जाते हैं। बेटा, छोटा बच्चा, मल त्यागता है, और मां सफाई करती है। इसका मतलब यह नहीं है कि माँ मेहतर हो गई है। माँ तो माँ है, लेकिन स्नेहपूर्वक वह सेवा दे रही है। इसी तरह, जब हम प्रेम में, स्नेह में भगवान की सेवा करते हैं, तो भगवान प्रकट होते हैं: अत: श्री-कृष्ण-नामादि न भवेद गृह्यं इंद्रिय: (चै. च. मध्य १७.१३६)।"
711110 - प्रवचन भ. गी. ०४.०१ - दिल्ली