HI/720224 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद कलकत्ता में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
हम भौतिक प्रकृति के नियमों की चपेट में हैं, और हमारे कर्म के अनुसार हम विभिन्न प्रकार के शरीर प्राप्त कर रहे हैं और एक शरीर से दूसरे शरीर में स्थानांतरित हो रहे हैं। और फिर एक बार जब हम जन्म लेते हैं, तो हम कुछ समय के लिए जीते हैं, हम शरीर को विकसित करते हैं, फिर हम कुछ उप-उत्पादों का उत्पादन करते हैं, फिर यह शरीर, घटता है, और अंत में यह लुप्त हो जाता है। यह गायब हो जाता है इसका अर्थ है कि आप दूसरे शरीर को स्वीकार करते हैं। फिर से शरीर बढ़ रहा है, शरीर रहता है, शरीर उपोत्पाद पैदा करता है, फिर से घटता है और फिर से लुप्त हो जाता है । यह ही चल रहा है ।
720224 - प्रवचन - कलकत्ता