HI/750321 बातचीत - श्रील प्रभुपाद कलकत्ता में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"अतिथि : हमारे जीवन का लक्ष्य ईश्वर की प्राप्ति होना चाहिए?

प्रभुपाद: हाँ। क्योंकि वर्तमान समय में हम अभिन्न अंग हैं। बेटे की तरह, उसमें भी पिता के लक्षण हैं, लेकिन यह नहीं जानता कि उसके पिता कौन हैं। वह नहीं जानता कि उसका पिता कौन है। एक हिंदी कहावत है, बाप का बेटा और सिपाही का घोड़ा कुछ और नहीं तो थोड़ा थोड़ा: "बेटे पिता का गुण विरासत में पाता है, लेकिन अगर वह नहीं जानता कि उसका पिता कौन है, तो उसका स्थिति क्या है?" यही चल रहा है।"

750321 - वार्तालाप - कलकत्ता