HI/670106b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद न्यूयार्क में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो ऐसी कोई बुद्धिमत्ता नहीं है, ऐसा कोई ज्ञान नहीं है, और वे बहुत अधिक गर्व करते हैं। इसलिए यदि हम वास्तव में चाहते हैं... क्योंकि ये चीजें ईश्वर के उपहार हैं, ज्ञान... यह यहाँ समझाया गया है, बुद्धिर ज्ञान असम्मोहः (भ.गी. १०.४)। यह सभी चीजें भगवान के उपहार हैं। इसलिए हमें उपयोग करना चाहिए। यह मानव रूप भगवान के उपहारों के उपयोग के लिए विकसित किया गया है। भगवान ने हमें अच्छा भोजन दिया है; भगवान ने हमें बुद्धि दी है; भगवान ने हमें ज्ञान दिया है; अब भगवान ने हमें ज्ञान की पुस्तकें दी हैं। वह व्यक्तिगत रूप से यह भगवद गीता बोल रहे है। आप इसका उपयोग क्यों नहीं करते? आप इसका उपयोग क्यों नहीं करते? अगर हम इसका उपयोग करते हैं, तो हम आर्यन या मनुष्य बनने पर गर्व कर सकते है।"
670106 - प्रवचन भ.गी. १०.४-५ - न्यूयार्क