HI/680905 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद न्यूयार्क में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
ब्रह्मचारी जब विवाहित होता है, तो उसे गृहस्थ कहा जाता है। परंतु ब्रह्मचारी को अपने जीवन के आरंभ से ही भौतिक भोग के त्याग का प्रशिक्षण दिया जाता है, इसलिए वह सामान्य व्यक्ति की तरह पारिवारिक जीवन में लीन नहीं रह सकता। साधारण व्यक्ति, वे जीवन के अंत तक पारिवारिक जीवन या महिला के संग को नहीं छोड़ सकते। परंतु वैदिक प्रणाली के अनुसार, महिला से संबंध की केवल एक निश्चित अवधि तक अनुमति दी गई है, केवल युवास्था के दौरान, केवल अच्छी संतान उत्पन्न करने के लिए। जोकि पच्चीस साल की उम्र से लेकर पचास साल की उम्र तक है। इस अवधि में व्यक्ति अच्छी संताने उत्पन्न कर सकता है।
680905 - दीक्षा और विवाह प्रवचन - न्यूयार्क