HI/680904 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद न्यूयार्क में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
योग की प्रगति से किसी की सराहना करनी चाहिए । खुद को जानना चाहिए । दूसरों की सिफारिश की कोई आवश्यकता नहीं है, की मैं एक महान योगी हूँ या नहीं । मेरी उन्नति दूसरों की प्रशंसा पर निर्भर नहीं करती है । लेकिन मुझे खुद को धोखा नहीं देना चाहिए । मुझे खुद को भगवान नहीं मानना चाहिए, बिना योग्यता के । यह एक आत्म-धोखाधड़ी की प्रक्रिया है ।
680904 - प्रवचन अंश - न्यूयार्क