HI/681220 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
यह अति महत्वपूर्ण बिंदु है। कभी-कभी यह सोचा जाता है कि आध्यात्मिक जीवन का मतलब सक्रिय जीवन से सेवानिवृत्त होना है। यह सामान्य धारणा है। लोगों को लगता है कि आध्यात्मिक ज्ञान या आत्म-साक्षात्कार के लिए उन्हें कुछ हिमालय की गुफाओं में या किसी एकांत स्थानों पर जाना चाहिए। यह भी संस्तुत किया जाता है। लेकिन इस तरह की संस्तुति उन लोगों के लिए है जो स्वयं को कृष्ण चेतना की गतिविधियों में संलग्न करने में असमर्थ हैं। भगवान कृष्ण अर्जुन को सिखा रहे हैं कि कोई अपने पद पर कैसे स्थित रह सकता है। इससे कोई अंतर नहीं पड़ता कि वह कौन है, परंतू फिर भी वह पूर्ण रुप से कृष्णभावनाभावित बन सकता है।
681220 - प्रवचन BG 03.01-5 - लॉस एंजेलेस