HI/690111 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"जीवन का यह मानवीय रूप प्रभु के नियमों को जानने के लिए है - वैज्ञानिक रूप से, प्रभु के नियमों को जानने के लिए। अध्ययन करो, जैसे हमने बहुत सारे उदाहरण दिए हैं। आपको अन्य की संपत्ति का अतिक्रमण क्यों करना चाहिए? सभी को जीने का अधिकार मिला है। क्यों? क्या आपको अन्य जानवरों को मारना चाहिए? ये प्रकृति के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। आपको भुगतना होगा। इसलिए आपको इन चीजों को जानना होगा, क्योंकि आपके पास यह अच्छा शरीर है। ऐसा नहीं है कि आप बस खुद को बहुत अच्छी तरह से सजाते और सवारते हैं, और आप अच्छे बन जाते हैं। नहीं। भगवान के नियमों को जानना चाहिए। फिर आप अच्छे हैं। हां, लोग अच्छी तरह से सजते सवरते है पर अपने दिल के भीतर, जानवर से भी बद्तर हैं। इस तरह की सभ्यता की निंदा की जाती है। और यह हरे कृष्ण जप एक तरह से सफाई है। अंदर और बाहर की सफाई। इसलिए अपने वास्तविक जीवन के स्तर पर आने के लिए, आपको इस आंदोलन में जाना चाहिए। चेतो दर्पण मार्जनम (चैतन्य चरितामृत, अंत्य लीला, २०.१२, शिक्षाष्टकम १)। दिल को साफ करना चाहिए।"
690111 - प्रवचन भ. गी. ०४.३१ - लॉस एंजेलेस