HI/690924 बातचीत - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो अब लोग इस स्थिति पर भी विचार नहीं करना चाहते हैं, कि" अगर मैं साक्षात् हूं, अगर मैं अपना स्थान, अपनी पोशाक, हर पचास साल या दस साल या बारह साल में पोशाक के अनुसार अपना व्यवसाय बदल रहा हूं ... " बिल्ली और कुत्ते, दस साल तक जीवित रहते हैं। गायें बीस साल तक जीवित रहती हैं, और आदमी कहते हैं, सौ साल तक जीवित रहता है। पेड़ हजारों साल तक जीवित रहते हैं। लेकिन हर किसी को बदलना पड़ता है। वासांसि जीर्णानि यथा विहाया। (भा.गी २.२२) जैसा कि हमें अपनी पुरानी पोशाक को बदलना होगा, उसी तरह, इस शरीर को बदलना होगा। और हम बदल रहे हैं। हर पल बदल रहे हैं। यह एक तथ्य है।"
६९0९२४ - बातचीत - लंडन