HI/690926 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लंडन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"इसलिए सभी को समान स्तर पर नहीं रखा जा सकता है, न केवल भौतिक रूप से, बल्कि आध्यात्मिक रूप से भी। यदि आप कहते हैं कि" यह उच्च स्थिति, निम्न स्थिति की गणना भौतिक जगत में की जाती है; आध्यात्मिक जगत में ऐसा कोई भेद नहीं है," यह आंशिक रूप से सत्य है। आध्यात्मिक जगत में ऐसा कोई भेद नहीं है, लेकिन वह आध्यात्मिक भेद वास्तव में भौतिक भेद की तरह नहीं है। वह अंतर भावनामृत का है, भावनामृत कि किस्मों का। वह अंतर।"
६९0९२६ - प्रवचन - लंडन