HI/710211 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद गोरखपुर में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"जब आप बोलते हैं, जब आप उपदेश के लिए एक प्रवचन में जाते हैं, तो वह भी जप है, जब आप बोलते हैं। और वहाँ स्वतः सुनवाई होती है। यदि आप जप करते हैं, तो वहाँ भी सुनवाई होती है। श्रवणम कीर्तनम विष्णोः स्मरणम (श्री. भा. ०७.०५.२३)। वहाँ भी स्मरण है। जब तक आप श्रीमद-भागवतम, भगवद-गीता के सभी निष्कर्ष याद नहीं करते हैं, आप बोल नहीं सकते। श्रवणम कीर्तनम विष्णोः स्मरणम पाद सेवनं अर्चनं। अर्चनं, यह अर्चनं है। वन्दनं, प्रार्थना की पेशकश। हरे कृष्ण भी एक प्रार्थना है। हरे कृष्ण, हरे कृष्ण: "ओह कृष्ण, ओह कृष्ण की शक्ति, कृपया मुझे अपनी सेवा में लगाओ। यह हरे कृष्ण केवल प्रार्थना है।"
710211 - प्रवचन श्री.भा. ०६.०३.१८ - गोरखपुर