HI/710211b प्रवचन - श्रील प्रभुपाद गोरखपुर में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"तो एक को गंभीर कार्य में संलग्न होना चाहिए; फिर नींद कम होगी। यदि कोई... नहीं है, अगर हम आलसी हो जाते हैं, अगर हमारे पास पर्याप्त काम नहीं है, तो नींद आएगी। और अगर काम नहीं है, लेकिन पर्याप्त भोजन, तो अगला परिणाम सो जाना है। इसलिए हमें कार्य को समायोजित करना होगा। हमें सात घंटे से अधिक नहीं सोना चाहिए। रात में छह घंटे और एक घंटा, यह पर्याप्त है। चिकित्सा की दृष्टि से, वे कहते हैं कि छह घंटे की नींद पर्याप्त है। छह घंटे। तो मान लीजिए कि अगर हम सात से आठ घंटे, एक घंटा अधिक सोते हैं, तो चौबीस घंटे में से हम आठ घंटे सोते हैं। फिर सोलह घंटे। और जप, दो घंटे। दस घंटे। और स्नान और तैयार होने के लिए, और दो घंटे।"
710211 - प्रवचन श्री.भा. ०६.०३.१८ - गोरखपुर