HI/710406 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद बॉम्बे में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"आप पालन कर सकते हैं। आप किसी विशेष प्रकार की धार्मिक प्रणाली का अनुसरण कर सकते हैं। यह कोई मायने नहीं रखता। परंतु यदि अपनी धार्मिक प्रणाली का अनुसरण करते हुए, आप परम पुरुषोत्तम भगवान को समझने के बिंदु तक नहीं आते, या यदि आप परम पुरुषोत्तम भगवान को समझने के विषय में रुचि नहीं लेते, तो आपको यह जान लेना चाहिए कि आपके सभी धार्मिक अनुष्ठानों के समारोहों का प्रदर्शन केवल समय की बर्बादी है।"
७१०४०६ - प्रवचन पंडाल - बॉम्बे