HI/710406b बातचीत - श्रील प्रभुपाद बॉम्बे में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"ईश्वर आपका आदेश-आपूर्तिकर्ता नहीं है। आप युद्ध का निर्माण करते हैं और गिरिजाघर में प्रार्थना करते हैं। आप युद्ध क्यों निर्माण करते हैं? संरक्षण बेहतर इलाज है... जब तक आप (हैं) कृष्ण भावनामृत में नहीं हैं, तो आप-तेना त्यक्तेन भुंजिता (ईशो 1)-आप दूसरों की संपत्ति का अतिक्रमण करेंगे। उस पाप-बीज को ख़तम करना होगा। अब, युद्ध निर्माण करने के बाद... क्या उपयोग है? अपनी गलती से युद्ध निर्माण करने के बाद, यदि आप गिरिजाघर जाते हैं और भगवान से प्रार्थना करते हैं, "कृपया मुझे बचाओ," कौन चाहता था की आप युद्ध का निर्माण करें? वे अपने युद्ध का निर्माण कर रहे हैं, और भगवान को आदेश-आपूर्तिकर्ता बना रहे हैं: "अब मैंने युद्ध का निर्माण किया है। कृपया इसे रोकें।" क्यों? क्या आपने इसे भगवान की मंजूरी से किया है? ताकि वे पीड़ित हों।"
710406 - वार्तालाप - बॉम्बे