HI/710702 बातचीत - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
"जब आपके पास सेवा का रवैया होता है, तो कृष्ण प्रसन्न हो जाते हैं। पूरी प्रक्रिया सेवा है, एक की क्षमता के अनुसार। इसलिए यह आवश्यक नहीं है कि किसी को इस तरह या उस तरह से सेवा करनी है। नहीं। सबसे उत्तम क्षमता कि सेवा की मनोवृत्ति होनी चाहिए। उदाहरण के लिए, मैं एक सेवा स्थान के साथ यहां आया था, कि मुझे अपने गुरु महाराज को कुछ सेवा देनी चाहिए, न कि मैंने सफलता के बारे में सोचा। लेकिन मनोवृत्ति यह थी कि गुरु महाराज ने मुझसे कहा कि मुझे कुछ करना चाहिए, मैं जो भी कर सकता हूं। यह असफलता हो सकती है; यह सफलता हो सकती है-मुझे प्रयास करने दो। यह सेवा मनोवृत्ति ही एकमात्र लक्ष्य है।"
710702 - प्रवचन - लॉस एंजेलेस