HI/680830 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद मॉन्ट्रियल में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
राधारानी कृष्ण का विस्तार हैं। कृष्ण शक्तिमान है, और राधारानी उनकी शक्ति हैं। जिस तरह आप शक्तिमान से शक्ति को अलग नहीं कर सकते। आग और गर्मी आप अलग नहीं कर सकते। जहां भी अग्नि होती है वहां गर्मी होती है, और जहां भी गर्मी होती है वहाँ अग्नि, इसी प्रकार, जहां कहीं भी कृष्ण हैं वहां राधा है। और जहां कहीं राधा है वहां कृष्ण है। वे अविभाज्य हैं। परंतु वे आनंद ले रहे हैं। स्वरूप दामोदर गोस्वामी ने राधा कृष्ण के इस जटिल विषय के बारे में वर्णन एक श्लोक में किया है, बहुत अच्छा श्लोक है। राधा कृष्ण प्रणय विकृतिर आह्लादिनी-शक्तिर अस्माद एकात्मानाव अपि भुवि पूरा देह-भेदम गतौ तौ (चै.च. आदि १.५)। राधा और कृष्ण परम भगवान हैं, किन्तु आनंद लेने के लिए, वे दो में विभाजित हुए हैं। फिर भगवान चैतन्य दो में से एक बन गए। चैतन्याख्यम प्रकटम अधुना। वो एक का अर्थ यहाँ है कृष्ण जो की राधा के परमानंद में है। कई बार कृष्ण राधा के परमानंद में होते है। और कभी राधा कृष्ण के परमानंद में। यह चल रहा है। परंतु ध्यान देने योग्य बात यह है की राधा और कृष्ण का अर्थ एक ही है, परम भगवान।
680830 - उत्सव प्रवचन, श्रीमती राधारानी आविर्भाव दिन, राधाष्टमी - मोंट्रियल