HI/681114 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद लॉस एंजेलेस में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
तो यह पूरी सृष्टि, जो भी भौतिक सृष्टि हमें मिली है, वे इन चौबीस एल से बनी हैं ... बिल्कुल रंगों की तरह। विभिन्न प्रकार के रंगों का अर्थ है तीन रंग: पीला, लाल और नीला। जो लोग रंग मिश्रण के विशेषज्ञ हैं, वे इन तीन रंगों को ईक्कासी रंगों में बना देंगे। तीन गुणा तीन बराबर नौ; नौ में नौ गुणा बराबर ईक्कासी। इसलिए विशेषज्ञ रंगकर्मी, इन तीन रंगों को ईक्कासी रंगों में प्रदर्शित कर सकते हैं। इसी प्रकार, भौतिक प्रकृति ... निस्संदेह, यह एक, एक ऊर्जा है। लेकिन इस ऊर्जा के भीतर तीन गुण हैं: सत्व-गुण, रजो-गुण, तमो-गुण। इन तीन गुणों के मेल से, मन, बुद्धि, अहंकार- सूक्ष्म तत्व- निर्मित होते हैं, और फिर सूक्ष्म तत्वों से स्थूल तत्व निर्मित होते हैं।
Lecture Excerpt on Twenty-four Elements - - लॉस एंजेलेस