HI/690621 प्रवचन - श्रील प्रभुपाद न्यू वृन्दावन में अपनी अमृतवाणी व्यक्त करते हैं

From Vanipedia

HI/Hindi - श्रील प्रभुपाद की अमृत वाणी
ठीक उसी उदाहरण की तरह, जैसा हम बार-बार बताते हैं ... कि पेट में भोजन आपूर्ति करके, आप शरीर के सभी अंगों की भोजन की आपूर्ति करते हैं। आपकी आवश्यकता नहीं है ... यह व्यावहारिक है। या पेड़ की जड़ में पानी डालते हुए, आप सभी शाखाओं, पत्तियों, हर जगह पानी की आपूर्ति करते हैं। हम रोज देखते हैं। यह व्यावहारिक उदाहरण है। बस ... इसी तरह, इन सभी अभिव्यक्तियों का केंद्रीय बिंदु भी होना चाहिए। वह कृष्ण हैं। अगर हम बस कृष्ण को पकड़ते हैं, तो हम हर वस्तु प्राप्त कर लेते हैं। और वेद यह भी कहते हैं, यस्मिन् विज्ञते सर्वम् इदं विज्ञातम् भवति (मुण्डक उपनिषद १.३)। हम विभागीय ज्ञान को खोज रहे हैं, लेकिन अगर आप केवल कृष्ण को, केंद्र बिंदु को समझते हैं, तब आप सब कुछ समझ जाते हैं।
690621 - प्रवचन SB 01.05.17-18 - New Vrindaban, USA