HI/Prabhupada 0690 - भगवान शुद्ध हैं, और उनका धाम भी शुद्ध है

From Vanipedia
Jump to: navigation, search
Go-previous.png पिछला पृष्ठ - वीडियो 0689
अगला पृष्ठ - वीडियो 0691 Go-next.png

भगवान शुद्ध हैं, और उनका धाम भी शुद्ध है
- Prabhupāda 0690


Lecture on BG 6.35-45 -- Los Angeles, February 20, 1969

भक्त: "लेकिन जब योगी सच्वी निष्ठा से आगे प्रगति करने का प्रयास करता है, समस्त कल्मष से शुद्ध होकर, तो अंतत:, अनेकानेक जन्मों के अभ्यास के पश्चात सिद्धि-लाभ करके वह परम गन्तव्य को प्राप्त करता है (भ.गी. ६.४५) ।"

प्रभुपाद: हाँ । तो यह अभ्यास का सवाल है । जैसे पैदा हुए बच्चे को, उसे पता नहीं है कि कैसे शराब पीना है, धूम्रपान करना है - लेकिन संग द्वारा वह एक शराबी, एक धूम्रपान करने वाला, नशा करने वाला बन जाता है। संग द्वारा । तो यह केवल संग का सवाल है । संगात संजायते काम: । अगर संग अच्छा है... हमारा जीवन खराब हो जाता है क्योंकि हम अच्छा संग नहीं करते हैं । तो यह यहाँ समझाया गया है, कि: "लेकिन जब योगी आगे प्रगति करने में ईमानदारी से प्रयास के साथ खुद को संलग्न करता है..." जैसे व्यापार में, तो कई संग, व्यापार संघ हैं। क्योंकि उस व्यापार संध का सदस्य बनने से, वह विशेष प्रकार का व्यापार फलता-फूलता है। उनका एक्सचेंज होता है । वह एक्सचेंज बना सकते हैं, एक्सचेंज का बिल, शेयर बाजार बना सकते हैं। तो संघ बहुत महत्वपूर्ण है।

तो अगर हम दिव्य चेतना के विकास के लिए गंभीर हो जाते हैं, तो यह केवल एकमात्र संघ है - हमने आंतरराष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ की स्थापना की है । यहाँ, कैसे व्यक्ति दिव्या चेतना प्राप्त कर सकता है, वही सिखाया जाता है। तो यह एक अच्छा मौका है । हम हर किसी को शामिल होने के लिए आमंत्रित करते हैं, और प्रक्रिया बहुत सरल है । बस हरे कृष्ण का जप करो और तुम्हे महसूस होगा । कोई कठिन प्रक्रिया नहीं है । बच्चे भी भाग ले सकते हैं और वास्तव में वे भाग ले रहे हैं । तुम्हे किसी भी पिछले योग्यता की आवश्यकता नहीं है । की तुम्हे डिग्री, परीक्षा या इस या उस को पारित करना होगा । जो भी तुम हो, तुम केवल अाअो अौर तुम इस संघ में शामिल हो जाअो अौर तुम कृष्ण भावनभावित हो जाअो । यह इस संघ का लाभ है । यह स्पष्ट है । समझने की कोशिश करें । अागे पढो । तात्पर्य ?

भक्त: "सदाचारी, धनवान या पवित्र कुल में उत्पन्न पुरुष, योगाभ्यास के अनुकूल परिस्थिति से सचेत हो जाता है । अत: वह दृढ़ संकल्प करके, अपने अधूरे कार्य को करने में लग जाता है, और इस प्रकार वह अपने को समस्त भौतिक कल्मष से शुद्ध कर लेता है । समस्त कल्मष से मुक्त होने पर उसे परम सिद्धि - कृष्णभावनामृत - प्राप्त होती है ।"

प्रभुपाद: यह है, यह है... समझने की कोशिश करो, कि भगवान... भगवान शुद्ध हैं, और उनका धाम भी शुद्ध है, और जो वहाँ प्रवेश करना चाहता है, उसे भी शुद्ध होना चाहिए । यह बहुत ही स्वाभाविक है, अगर तुम किसी विशेष समाज में प्रवेश करना चाहते हो, तो तुम्हे अपने आप को योग्य बनाना होगा । कुछ हैं... योग्यता है... वापस भगवद धाम जाने के लिए, योग्यता यह है कि तुम भौतिक दूषित नहीं होने चाहिए । और वह भौतिक संदूषण क्या है? भौतिक संदूषण है इन्द्रिय संतुष्टि । अप्रतिबंधित इन्द्रिय संतुष्टि । यही भौतिक संदूषण है ।

तो तुम्हे भौतिक संदूषण से खुद को मुक्त करना होगा । तो फिर तुम परमेश्वर के धाम में प्रवेश करने के पात्र हो जाते हो । भौतिक संदूषण से मुक्त होने की वह प्रक्रिया योग है । योग का मतलब नहीं है कि तुम बैठो पंद्रह मिनट के लिए, तथाकथित ध्यान के लिए, और तुम अपने सभी भौतिक संदूषण जारी रखो । जैसे अगर तुम्हे किसी रोग से ठीक होना है, तुम्हे चिकित्सक द्वारा किए गए नियमो का पालन करना होगा । इसी तरह, इस अध्याय में, इस योगाभ्यास करने की प्रक्रिया की सिफारिश की गई है, कैसे करना है । तो अगर तुम उन निर्धारित विधि पर अमल करते हो, तो तुम भौतिक संदूषण से मुक्त हो जाते हो । तो तुम वास्तव में भगवान के साथ संबंध बनाते हो, भगवान से जुड़ने के लिए । यही कृष्ण भावनामृत है ।

हमारी विधि है प्रत्यक्ष रूप से तुम्हे जोड़ना । यही भगवान चैतन्य का विशेष उपहार है । तत्काल श्री कृष्ण के साथ उसका संपर्क कराना । क्योंकि अंततः तुम्हे उस स्तर पर अाना है, कृष्ण भावनामृत । तो यह विधि है, सीधा, तुरंत... और यह व्यावहारिक भी है । जिनकी कोई योग्यता नहीं है, वे - केवल संघ के साथ संपर्क में आने से वे कृष्ण भावनामृत में अत्यधिक उन्नत हो गए हैं । यह व्यावहारिक है । तो इस युग में हमें लोगों को मौका देना चाहिए, सीधे संपर्क से । धीमी प्रक्रिया नहीं मदद करेगी क्योंकि जिंदगी बहुत छोटी है, वे बहुत ज्यादा भाग्यशाली नहीं हैं, और संघ बहुत खराब है। इसलिए, सीधा संपर्क - हरेर नाम (चैतन्य चरितामृत अादि १७.२१) | केवल कृष्ण उनके दिव्य नाम के रूप में प्रस्तुत हैं और तुम उनसे तुरंत संपर्क कर सकते हो केवल सुनने से । तुम्हे प्राकृतिक साधन मिला है। तुम केवल सुनो "कृष्ण" और तुम तुरंत पवित्र हो जाते हो । अागे पढो ।